UBS Full Form In Hindi – UBS क्या है ?

UBS Full Form In Hindi , UBS Bank Full Form , UBS Kya Hai , UBS Full Form

हम सभी ने ” Swiss Bank ” नाम तो कई बार सुना होगा , तो चलिए आज हम इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करे |

UBS Full Form In Hindi

UBS भारत में एक बहुत बड़ी financial कंपनी है , जिसे ” Swiss Bank ” के नाम से जाना जाता है | इसका पूरा नाम ” UBS AG ” जिसकी मुख्य शाखा स्विट्ज़रलैंड के Zurich और Basel में है |

UBS तकरीबन 40 से अधिक देशों में चल रही है , जिसमें 60,000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते है | इस से इसकी importance का पता लगाया जा सकता है | इतना ही नहीं पर ये स्विट्ज़रलैंड की सबसे बड़ी बैंक है और इस बैंक के पर 2.6 CHF ट्रिलियन की इनवेस्टेड Assets है |

UBS क्या है?

UBS नाम उसके Predecessor कॉर्पोरेशंस जो की ” Union Bank of Switzerland ” है , उस पे रखा गया था | लेकिन 1991 में इस बैंक का Merger स्विस बैंक Corp. के साथ हुआ | जिसके बाद UBS नाम  Acronym नहीं , बल्कि कंपनी का नाम ही हो गया |

UBS Logo

UBS के Logo को सभी पहचानते है , लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा की ये ” Three keys ” वाला Symbol स्विस बैंक कारपोरेशन से लिया गया है | इन तीन Keys का भी अपना मतलब है , जिसकी वजह से लोग इस पे आंख बंद करके विश्वास करते है | यह Logo आत्मविश्वास, सुरक्षा और विवेक का प्रतिक है और इसलिए UBS ने इसे Logo के तौर पर चुना है |

UBS सभी मुख्य फाइनेंसियल activities में शामिल है | UBS का United States में एक बहुत ही बड़ा नाम है और इसलिए इसका अमेरिकन हेडक्वार्टर New York में स्थित है | सभी कमर्शियल बैंकिंग, इन्वैस्टमैंट बैंकिंग, रिटेलर बैंकिंग, wealth management UBS के साथ किसी न किसी स्वरुप में जुड़े है | इसी वजह से UBS की गतिविधियों का सीधा असर सभी फाइनेंसियल और बैंकिंग सेक्टर पे पड़ता है |

UBS कैसे काम करता है?

ऊपर हमने UBS Full Form In Hindi के बारे में बताया , अब जानते हैं , UBS कैसे काम करता है ? सूत्रों के अनुसार , लोग अपना काला धन इस बैंक में जमा करते है | लेकिन सब इनफ्रामेंशन होने के बावजूद कोई कुछ नहीं कर सकता | यह बैंक स्विट्ज़रलैंड के कानून के हिसाब से काम करता है और यहाँ सभी बैंक अपनी मर्जी से कार्य करते है | इसलिए जब तक फुल प्रूफ न हो , किसी पे Action नहीं ले सकते | UBS में अकाउंट धारक को उनके नाम से नहीं पहचाना जाता , बल्कि Id से जानते है |

जब कोई इसमें अपना अकाउंट खुलवाता है , तो उसे एक ID दी जाती है , जो उस बैंक धारक की पेहचान होती है | UBS के कर्मचारियों को भी बैंक धारक का नाम नहीं पता होता , वे भी ID द्वारा ही सारा काम करते है | बैंक के कुछ खास अधिकारीयों को ही नाम के बारे पे पता होता है |



UBS के Divisions ( UBS Full Form In Hindi )

UBS के कई मेजर Divisions है , जिसमें वे अपने प्रोडक्ट्स और सर्विसेज प्रदान करते है | तो आईये हम इन Divisions के बारे में जानते है :

1. Retail Banking

ये सेक्टर indiviual ग्राहक को सेवा प्रदान करता है | इसे mass marketing के नाम से भी जाना जाता है | जहाँ ग्राहक पर फोकस होता है | कस्टमर कमर्शियल बैंक की मदद ले सकते है , यदि इसकी लोकल ब्रांच उनके शहर पे मौजूद है | UBS की रिटेल बैंकिंग द्वारा कस्टमर को डेबिट या क्रेडिट कार्ड, मोर्टगेजेस, सेविंग अकाउंट, लोन्स इत्यादि की सुविधा प्राप्त होती है | UBS रिटेल बैंकिंग का मुख्य  काम indiviual कस्टमर की मदद करना और उनको फाइनेंसियल हेल्प और सिक्योरिटी देना है |

2.Asset Management

इस सेक्टर का काम है , क्लाइंट को इन्वेस्टमेंट पे अच्छा परफॉरमेंस देना और साथ ही उनको Important सर्विस प्रदान करना | यहाँ क्लाइंट के indiviual asset को मैनेज किया जाता है , जिसमें पेंशन फण्ड भी शामिल है | यह वेल्थ मैनेजमेंट से अलग है , क्यूंकि यहाँ client के सभी इन्वैस्टमैंट जो उनके लिए asset स्वरुप है , उनको मैनेज करना और return बढ़ने पे काम किया जाता है | यह लोगो को सर्विस प्रदान करता है , जिससे उनके asset की कीमत में बढ़ोतरी हो सके और उनका future secure हो सके |

3.Investment Banking

UBS के इन्वैस्टमैंट बैंक बहुत प्रख्यात और नामीबैंक है | जैसे की सिटीग्रुप, बार्कलेज, बैंक ऑफ अमेरिका, मेरिल लिंच, क्रेडिट सुइस, जे.पी. मॉर्गन इत्यादि | यह सभी इन्वैस्टमैंट बैंक का नाम हमने सुना ही है , लेकिन ये सिर्फ इंवेसंटनेट नहीं बल्कि issuers को सही गाइडेंस भी देती है | जिससे स्टॉक सही जगह पर इन्वेस्ट किये जाये | इस बैंक द्वारा सेक्यूरिट्स, मेर्गेर्स, ब्रोकर trades जैसे सरे काम में योगदान है | UBS का इन बैंक के साथ रिलेशन लोगो को लिए बहुत लाभदायी है , और ये सब भरोसेमंद बैंक है , जिससे लोगो का UBS पे भी अटूट विश्वास है |



Wealth management 

UBS , हाई नेट वर्थ और अल्ट्रा नेट वर्थ दोनों में शामिल है , जिस वजह से ये सभी फाइनेंसियल गतिविधियों में शामिल है | इस सेक्टर में जो फाइनेंसियल Advisors काम करते है , वो क्लाइंट को उनके finance को मैनेज करने में मदद करते है और उनको उस हिसाब से solution देते है |

UBS का ये डिवीज़न लोगो के लिए काम करता है और उनको उसके assets को किस तरह इस्तेमाल करना चाहिए , वो भी समझाता है | ये सभी फाइनेंसियल Advisors , निवेश प्रबंधन, आयकर में विशेषज्ञ है , जो की क्लाइंट्स को सही सलाह देते है |

UBS का कार्य अपने बैंक के नियम के अनुसार होता है और इसलिए कोई भी इस बैंक में account नहीं खुलवा सकता |  ये सभी तरह के बैंक के साथ जुड़ा हुआ है और इसलिए इस बैंक में कुछ होता है , तो उसका असर सभी छोटी या बड़ी बैंक पे भी पड़ता है |

ये कुछ जानकारी है , UBS Or UBS Full Form In Hindi के बारे में, जो स्विस बैंक का कार्य बताते है | यदि आपको कुछ प्रश्न हो या इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करनी हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करे |

1 thought on “UBS Full Form In Hindi – UBS क्या है ?”

Leave a Comment